Trading Kya Hai

Trading Kya Hai in Hindi | Trading Meaning in Hindi [2022]

Share Market

आज हम जानेगे Trading Kya Hai, Trading Meaning in Hindi और ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते है. दोस्तो शेयर बाजार में दो तरह के लोग हिस्सा लेते है Investor और Trader. जो व्यक्ति अपने पैसे का बड़ा हिस्सा निवेश करता है उसे Investor कहा जाता है. सरल भाषा में ट्रेडिंग का अर्थ है लाभ कमाने की आशा से कोई भी सामान या सेवा खरीदना और बेचना, यह एक प्रकार का बिजनेस ही होता है.

Trading Kya Hai

What is Trading in Hindi

आपके अपार्टमेंट या आपकी गली में सब्जी बेचने आने वाले चाचा एक तरह से इन्वेस्टर है. वह भी सब्जी बेचने का धंधा करते है. क्योंकि वह बाजार से थोड़े कम दाम में सब्जियां खरीदते है और फिर आपको थोड़े ज्यादा दाम में बेचते है.

इससे दो काम हो जाते हैं, लोगों को घर बैठे सब्जी मिल जाती है और वही चाचा भी थोड़ी कमाई कर लेते है. यदि हम अपने चारों ओर देखें तो अधिकांश व्यापार का ही होता है. उस चाचा की तरह किराने की दुकान में जहां से आप किराने का सामान खरीदते है.

या वो मेडिकल स्टोर भाई जहाँ से आप कोई दवाई ख़रीदते हो और ऐसे सभी लोग किसी न किसी सामान का व्यापार करते हो. तो चलिए अब हम जानते हैं कि ट्रेडिंग क्या है

Trading Meaning in Hindi

Trading Kya Hai – शेयर बाजार में ट्रेडिंग का मतलब है मुनाफा कमाने की उम्मीद के साथ किसी कंपनी के स्टॉक यानि शेयरों की खरीद-बिक्री करना.

जैसे किसी कंपनी के शेयर खरीदे और फिर कुछ समय बाद उसे बेच दिया जब उसकी कीमत बढ़ गई. यह समय कुछ मिनटों से लेकर कुछ हफ्तों तक हो सकता है. जी हां, शेयर बाजार में चंद मिनटों में भी शेयर खरीदना और बेचना संभव है. क्योंकि दिन भर शेयर बाजार में कारोबार करने वाली कंपनियों के बारे में अच्छी और बुरी खबरें आती रहती है.

जिससे शेयर बाजार में उन कंपनियों के शेयरों के भाव हर सेकेंड में भी कई बार बदलते रहते है. इसका फायदा उठाकर कई लोग मिनटों में भी शेयर खरीद-बिक्री करते है. लेकिन इतनी जल्दी खरीद-फरोख्त के कारण जैसे खरीद-बिक्री में लाभ मिनटों में हो सकता है, वैसे ही नुकसान भी मिनटों में हो सकता है. इस कारण इस प्रकार के व्यापार को बहुत जोखिम भरा माना जाता है.

ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते है

मिला जुलाकर ट्रेडिंग पांच प्रकार के होते है लेकिन मुख्य रूप से इन तीन प्रकार के स्टॉक ट्रेडिंग को कहा जाता है

Intraday Trading,
Positional Trading
Short Term Trading या Swing Trading

Trading Kya Hai के इस पोस्ट मे हम सबसे पहले बात करेंगे इंट्राडे ट्रेडिंग की जिसे OneDay Trading भी कहते है. इस प्रकार की ट्रेडिंग काफी रिस्क वाली होती है.

How to Invest in Share Market

Intraday Trading Kya Hai

यदि शेयर ट्रेडिंग करने वाला कोई ट्रेडर एक ही दिन में शेयर खरीद और बेच सकता है तो उस ट्रेडिंग को वन-डे या इंट्राडे ट्रेडिंग कहा जाता है.

भारत का शेयर बाजार सुबह 9:15 बजे से दोपहर 3:30 बजे तक खुला रहता है. अगर इन दोनों के बीच के समय में कोई शेयर खरीदा और बेचा जाता है, तो वह इंट्रा डे ट्रेडिंग हो जाएगा. हमने मिनटों में किए गए उपरोक्त ट्रेडिंग के बारे में जो बात की, वह भी इंट्राडे ट्रेडिंग है.

एक इंट्राडे ट्रेडर का लक्ष्य बाजार में आने वाली खुशखबरी से स्टॉक में तेज उतार-चढ़ाव का फायदा उठाना होता है. जिससे वह कम समय में मुनाफा कमा सके. लेकिन यह आवश्यक नही है कि वह केवल लाभ ही कमाता है, उसे हानि भी हो सकती है.

बल्कि इंट्राडे ट्रेडिंग में कुछ सफल ट्रेडर्स को छोड़कर ज्यादातर लोगों को नुकसान उठाना पड़ता है. इस कारण इंट्रा डे ट्रेडिंग में सफल होना एक बहुत ही मुश्किल काम है. हालांकि उन सफल व्यापारियों को भी नुकसान होता है, लेकिन उनका मुनाफा उनके नुकसान से काफी ज्यादा होता है. जिससे उन्हें सब कुछ मिलाकर तो ज्यादातर संजोगो में ही मुनाफ़ा मिलता है.

लेकिन ज्यादातर लोगों के साथ ऐसा नहीं होता है. जिससे बहुत ही कम लोग सफल इंट्रा डे ट्रेडर बन पाते है. इस ट्रेडिंग के लिए, ब्रोकर आपको आपके द्वारा जमा की गई राशि के 10 से 20 गुना के शेयर खरीदने और बेचने की अनुमति देता है. यानी अगर आपने 10 हजार रुपये जमा किए हैं तो आप 1 लाख से 2 लाख तक खरीद-बिक्री भी कर सकते हैं.

Share Market Charts Study in Hindi

Positional Trading Kya Hai

एक अन्य प्रकार का स्टॉक ट्रेडिंग पोजिशनल ट्रेडिंग है. यदि कोई व्यापारी एक दिन में एक शेयर खरीदता है और फिर उसे उसी दिन बेचने के बजाय 1 दिन से लेकर एक सप्ताह के बीच में बेचता है, तो इसे पोजिशनल ट्रेडिंग कहा जाता है.

(यानी मार्केट के उतार चढ़ाव को परखने के बाद) ऐसा करने के लिए उस ट्रेडर को उस स्टॉक की डिलीवरी लेनी होती है. जिसके लिए ब्रोकर को उन शेयरों की पूरी राशि का भुगतान करना होता है, जिन पर उसने खरीदा है.

दो दिनों के भीतर वह हिस्सा उनके डीमैट खाते में आ जाता है. फिर वह जब चाहे उस शेयर को बेचकर अपना पैसा जुटा सकता है. हालांकि इस तरह के ट्रेडिंग में इंट्राडे की तुलना में कम जोखिम होता है, लेकिन इसमें रातोंरात जोखिम होता है.

कई बार बॉन्ड मार्केट में कोई अच्छी या बुरी खबर आने की वजह से अगले दिन पूरा बाजार या कुछ शेयर बहुत ज्यादा या बहुत कम खुलते है. इससे जुड़े जोखिम को ओवरनाइट रिस्क कहा जाता है. इंट्राडे ट्रेडिंग करते समय यह जोखिम नहीं होता है क्योंकि इंट्रा डे ट्रेडिंग में शेयरों की डिलीवरी लेने की आवश्यकता नहीं होती है.

₹1 से कम कीमत वाले शेयर

Short Term Trading Kya Hai

तीसरे प्रकार का स्टॉक ट्रेडिंग शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग है. यदि कोई व्यापारी खरीदे गए स्टॉक को 1 सप्ताह से 4 सप्ताह तक या उससे ज्यादा रखता है और फिर उसे बेचता है, तो इसे शॉर्ट टर्म ट्रेडिंग कहा जाता है.

इस ट्रेडिंग में एक ट्रेडर का लक्ष्य कुछ ही हफ्तों में शेयर की कीमत में उतार-चढ़ाव का फायदा उठाकर मुनाफा कमाना होता है. इस कारण इस ट्रेडिंग को स्विंग ट्रेडिंग भी कहा जाता है. स्विंग ट्रेडिंग में भी रातोंरात जोखिम बना रहता है, लेकिन इंट्राडे ट्रेडिंग की तुलना में इस प्रकार के व्यापार में जोखिम कम होता है.

तो अब आप उस पोस्ट को पढ़कर समझ ही गये होंगे कि Trading Kya Hai और ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते है. शेयर मार्केट से जुड़ी ऐसी ही जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहे.

यह भी पढ़े

₹10 से कम कीमत वाले शेयर

Best Low Price Shares in India

Leave a Reply

Your email address will not be published.